पश्चिम बंगाल: ट्रांसफर से नाराज महिला IPS ने सरकार को सौंपा इस्तीफा

0
639

पश्चिम बंगाल में इन दिनों सत्ता और ब्यूरोक्रेसी के बीच तनाव चल रहा है. इस मुद्दे पर आमने सामने राज्य की महिला मुख्यमंत्री और महिला आईपीएस है. राज्य सरकार ने आईपीएस ऑफिसर भारती घोष का तबादला किया, तो IPS ने नाराज़ होकर अपना इस्तीफा सौंप डाला.                                                                                              भारती का पश्चिम मिदनापुर पुलिस अधीक्षक पद से ट्रांसफर कर दिया गया था, जिसके बाद उन्होंने पुलिस महानिदेशक सुरजीत कर पुरकायस्थ को अपना इस्तीफा दे दिया है. उनका तबादला तीसरी बटालियन के कमांडेंट के तौर पर बैरकपुर भेज दिया था.                                                                                                                            सूत्रों की मानें, तो मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और आईपीएस भारती के बीच पिछले 6 साल से ही तनाव चल रहा है. भारती इससे पहले झाड़ग्राम की पुलिस चीफ रह चुकी हैं, उसके बाद मिदनापुर जो कि एक माओवादी इलाका है वहां पर लंबे समय से तैनात थीं. अपने इस्तीफे में उन्होंने कहा कि चूंकि जिस जगह उनका ट्रांसफर किया गया है, उस जिम्मेदारी से वह खुश नहीं हैं इसलिए इस्तीफा दे रही हैं.                                                                                           कहा जा रहा है कि हाल ही में सबांग विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में टीएमसी को जीत तो मिली लेकिन बीजेपी का वोट शेयर काफी बढ़ा. जिसके बाद राज्य सरकार कुछ तबादले कर रही है. कहा जाता है कि भारती के पूर्व टीएमसी नेता मुकुल राय से अच्छे संबंध थे, राय अब बीजेपी में शामिल हो चुके हैं. इससे पहले चुनाव के दौरान भी उनके तबादले को लेकर भी बवाल हुआ था.                                                                                                                आपको बता दें कि भारती ने हावर्ड से प्रबंधन में डिग्री ली है, जिसके बाद भारत पुलिस सेवा में जाने से पहले यहां कलकत्ता प्रबंधन संस्थान में शिक्षक रह चुकी हैं. भारती घोष संयुक्त राष्ट्र के शांति मिशन के तहत लगभग एक दशक तक कोसोवो व बोसनिया में काम कर चुकी हैं.                                                                                       इसके अलावा खुफिया विभाग की महिला शाखा में भी अपने कामकाज के बूते अलग पहचान बनाई थी. वे वर्ष 2011 में ममता बनर्जी के मुख्यमंत्री बनने के बाद संयुक्त राष्ट्र मिशन से लौटी थीं.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY