गुरूग्राम रेयान स्कूल के खिलाफ धरना पर्दशन कर रहे अभिभावकों ने फूंका पास का शराब ठेका, पुलिस ने किया लाठीचार्ज

0
9

गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में पढ़ने वाले दूसरी क्लास के बच्चे प्रद्युम्न की मौत से नाराज स्कूल के बाकी बच्चों के परिवार वालों ने आज स्कूल के बाहर हंगामा किया। परिवार वालों ने गुस्से में पहले शराब के ठेके पर पत्थरबाजी की फिर देखते ही देखते उन्होंने ठेके को आगे अवाले कर दिया। हंगामा बढ़ते देख हालात को काबू करने के लिए पुलिसवालों ने लोगों पर लाठीचार्ज किया जिसमें कुछ मीडियाकर्मी भी घायल हो गए।

पिता ने की सीबीआई जांच की मांग
अभिभावकों का गुस्सा बढ़ते देख प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर ने हिंसा ना करने की अपील की। वरुण ने कहा कि जो भी अभिभावक हमें सपोर्ट कर रहे हैं मैं उन सभी से अपील करता हूं कि गुस्से में किसी भी तरह की तोड़फोड़ न करें, परिजन किसी भी तरह की हिंसा न करें। पिता ने कहा कि पुलिस अपना काम कर रही है लेकिन हम चाहते हैं कि सीबीआई भी इम मामले की जांच करें ताकी इस मामले की सभी डिटेल सामने आ सके।

हरियाणा शिक्षा मंत्री ने दिया जांच का आश्वासन
शिक्षा मंत्री राम बिलास शर्मा ने प्रेस कॉनफ्रेंस कर कहा की अगर प्रद्युम्न के माता-पिता जांच से संतुष्ट नहीं होंगे तो किसी भी एजेंसी से हरियाणा सरकार जांच कराने को तैयार है। साथ ही उन्होंने पीड़ित परिवार को दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया। शिक्षामंत्री शर्मा ने कहा कि स्कूल के मालिक-मैनेजमेंट के खिलाफ जुवेनाइल एक्ट की धारा 75 के तहत सख्त कार्रवाई होगी। आरोपी के खिलाफ पुलिस ने सबूत जुटा लिए हैं। एक हफ्ते में चार्जशीट दायर होगी। हमने एक हफ्ते का समय रखा है। पुलिस अपराधी को कोर्ट में पेश करेगी। हालांकि अन्य बच्चों के भविष्य का हवाला देते हुए शिक्षामंत्री ने कहा कि स्कूल की मान्यता रद्द नहीं की जाएगी।

क्या है पूरा मामला?
शुक्रवार को गुरुग्राम के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में दूसरी क्लास में पढ़ रहे प्रद्युम्न की गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। बच्चे का शव स्कूल के टॉयलेट में मिला था। जांच के बाद पता चला था कि प्रद्युमन की हत्या स्कूल के बस कंडक्टर ने ही की थी। कंडक्टर ने अपना जुर्म कुबूल भी कर लिया है।

कंडक्टर के कहा कि मेरी बुद्दी भ्रष्ट हो गई थी। मैं बच्चों के टॉयलेट में था। वहां गलत काम कर रहा था। तभी वह बच्चा आ गया। उसने मुझे देख लिया। मैंने उसे पहले देखा धक्का दिया। फिर खींच लिया। वह शोर मचाने लगा तो मैं डर गया। फिर मैंने उसे दो बार चाकू से मारा। उसका गला रेत दिया।

गुरुग्राम पुलिस ने बताया है कि आरोपी कंडक्टर ने बच्चे का यौन शोषण करने की कोशिश की थी। पूछताछ के दौरान कंडक्टर अशोक कुमार ने ये कबूल किया है कि उसने गुरुवार को भी बच्चे का यौन शोषण करने की कोशिश की थी। चाकू के बारे में पूछने पर उसने बताया कि स्कूल बस में चाकू हमेशा होता था।

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY