उ.कोरिया के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र की कार्रवाई पर चीन हुआ सहमत

0
10

उत्तर कोरिया की ओर से हाल में किए गए परमाणु परीक्षण के बाद उसके सबसे नजदीकी देश चीन ने संयुक्त राष्ट्र की ओर से उसपर और अधिक कार्रवाई पर सहमति जताई लेकिन संकट के समाधान के लिए बातचीत करने पर भी जोर दिया.

चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने कहा,कोरियाई प्रायद्वीप में नए विकास को देखते हुए चीन इस बात से सहमत है कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को प्रतिक्रिया देनी चाहिए और आवश्यक उपाय करना चाहिए. उन्होंने उत्तर कोरिया के आधिकारिक नाम डेमोक्रेटिक पीपुल्स रिपब्लिक ऑफ इंडिया (डीपीआरके) की चर्चा करते हुए कहा,डीपीआरके के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय समुदाय की ओर से उठाया जाने वाला कदम उसकी परमाणु और मिसाइल कार्यक्रमों को नियांित करने के लिए होना चाहिए. साथ ही बातचीत और मांणा का दौर भी शुरू किया जाना चाहिए.

चीन उत्तर कोरिया का सबसे बड़ा व्यावसायी सहयोगी है. गत वर्ष दोनों ओर से 92 प्रतिशत व्यवसाय किया गया था. चीन अपने सहयोगी देश को बड़ी मा में तेल और इंधन की आपूर्ति करता है.

गौरतलब है कि रविवार को उत्तर कोरिया ने अपने छठे परमाणु परीक्षण के तहत हाइड्रोजन बम का परीक्षण किया था जिसे लेकर अमेरिका, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद और विश्व के अनेक देशों ने कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी. उत्तर कोरिया ने अमेरिका पर युद्ध थोपने का आरोप लगाते हुए कहा कि वह संयुक्त राष्ट्र की किसी नयी पाबंदी और अमेरिकर के दवाब का शक्तिशाली तरीके से जवाब देगा.

अमेरिका ने एक मसौदा प्रस्ताव तैयार किया है जिसमें उत्तर कोरिया को तेल निर्यात पर प्रतिबंधों के अलावा उसके कपड़ा उत्पादों एवं कर्मचारियों पर प्रतिबंध लगाने की मांग की गई है. इस प्रस्ताव में उत्तर कोरिया के शासक किम जोंग  की संपत्ति जब्त करने और उन पर या संबंधी प्रतिबंध लगाने की भी मांग की गई है.

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने भी अपने पड़ोसी (उत्तर कोरिया) पर अंकुश लगाने के लिए और अधिक सख्ती बरतने के लिए चीन से आग्रह किया था.

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY