कुछ ही समय में उजड़ गई एक माँ की दुनिया, आरोपी ने कबूला जुर्म, सात दिन के भीतर पुलिस दायर करेगी चार्जशीट

0
24

09-1504938256-pradyumn

गुरुग्राम-हरियाणा। हरियाणा में गुरुग्राम (गुड़गांव) के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में शुक्रवार सुबह बाथरूम में सात वर्षीय छात्र की हत्या ने महज 45 मिनट में एक परिवार को उजाड़ दिया। सुबह स्कूल पहुंच रेहान क्लास में बस्ता रख कर बाथरूम गया और वहीं उसकी बस के हेल्पर ने हत्या कर दी। आरोपी ने अपना जुर्म कबूल लिया है और पुलिस की हिरासत में है। आरोपी अशोक ने पूछताछ में बताया कि वह बच्चे के साथ गलत हरकत करने का प्रयास कर रहा था। उसी दौरान बाथरूम की तरफ कुछ लोग आते हुए दिखे। घबराकर उसने बच्चे की हत्या कर दी। आरोपी समझा कि हत्या करते हुए उसे किसी ने नहीं देखा। इस वजह से वह स्कूल परिसर में ही रुका रहा।


उजड़ गई एक माँ की दुनिया

-सुबह 7.50 बजे : पिता वरुण ठाकुर ने बेटी विधि व बेटे प्रद्युम्न को स्कूल छोड़ा।

-सुबह 7.55 : प्रद्युम्न कक्षा में बैग रखने के बाद बाथरूम गया।

-सुबह 8 बजे : बाथरूम में उसकी चाकू से गला रेतकर हत्या की गई।

-सुबह : 8.10 : स्कूल ने पिता को प्रद्युम्न बाथरूम में गिरने की सूचना दी।

-सुबह 8.35 : पिता वरुण ठाकुर अस्पताल पहुंचे। मौत की सूचना दी।

-शाम : 7 बजे स्कूल के ड्राइवर, क्लीनर, माली समेत 10 हिरासत में लिए।

-रात 10 बजे : हेल्पर ने पूछताछ में हत्या कबूली।(घटनाक्रम पुलिस, पिता व स्कूल से मिली जानकारी के अनुसार)

छात्रों ने देखा प्रद्युम्न को खून से लथपथ

घटना का पता तब चला जब कुछ छात्रों को छात्र प्रद्युम्न ठाकुर (7) को खून से लथपथ हालत में टॉयलेट में पड़ा देखा। प्रद्युम्न को तत्काल समीप के अस्पताल ले जाया गया, जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित किया। पुलिस व फॉरेंसिक विशेषज्ञों ने मौके से खून, फिंगर प्रिंट व अन्य साक्ष्य एकत्र किए। खून से सना एक चाकू भी बरामद किया गया। प्रद्युम्न की बड़ी बहन भी इसी स्कूल में कक्षा पांचवीं पढ़ती है। दोनों बच्चों को गुरुग्राम की एक कंपनी में मैनेजर पिता वरुण ठाकुर ने सुबह स्कूल छोड़ा था। पिता ने कहा कि उनके बेटे को समय पर अस्पताल ले जाते तो वह बच सकता था।

घर से हंसता-खेलता गया था प्रद्युम्न

प्रद्युम्न घर से हंसता-खेलता स्कूल गया था। आज किसी बच्चे का जन्मदिन था, इसलिए उसे स्कूल में टॉफी मिलने की उम्मीद थी। उसने अच्छे से बॉय किया था। -ज्योति ठाकुर, प्रद्युम्न की मां

अपने बच्चों पर रखे खास ध्यान

-स्कूल बसों में ड्राइवर-क्लीनर, हेल्पर के व्यवहार से सजग रहें।

-बच्चा किसी भी हरकत की शिकायत करे तो तुरंत प्रबंधन से बात करें।

-स्कूल शौचालयों में अकेले न जाने को कहें।

-स्कूल या रास्ते में कोई पीछा कर रहा तो उससे बचने के तरीके समझाएं।-स्कूल प्रबंधन स्टाफ हमेशा सतर्क रहे।

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY