81 लाख आधार रद्द: जानिए अब आपके मन में आने वाले हर सवाल का जवाब

0
8

नई दिल्ली  (Unique Identification Authority of India) ने आज की तारिख तक में 81 लाख आधार नंबर रद्द कर दिए हैं। यह जानकारी सूचना प्रौद्यौगिकी मंत्री पी पी चौधरी ने दी है। चौधरी ने राज्य सभा को बताया की लगभग 81 लाख आधार नंबर्स को रद्द कर दिया गया है। UIDAI द्वारा आधार कार्ड का रिकॉर्ड राज्यवर और क्षेत्रवर नहीं रखा गया। इसके अलावा चौधरी ने कुछ अन्य कारणों का भी उल्लेख किया जिस वजह से आधार कार्ड रद्द किये गए।

क्या हैं आधार कार्ड रद्द होने के कारण:

आधार नियम 2016 सेक्शन 27 और 28 के मुताबिक, आधार एक्ट 2016 के कानून बनने से पहले आधार नंबर को आधार लाइफ साइकिल मैनेजमेंट दिशानिर्देश पर रद्द किया गया।
इसके आगे चौधरी ने बताया की UIDAI के पास आधार नंबर्स को रद्द करने का अधिकार है।
सेक्शन 27 और सेक्शन 28 के प्रावधान के अनुसार, किसी भी व्यक्ति का आधार रद्द किया जा सकता है, अगर उसे एक से अधिक कार्ड इशू कर दिए गए हों। इसी के साथ इसे तब भी कैंसिल किया जा सकता है जब डाक्यूमेंट्स ना हो या बायोमेट्रिक विसंगतियां हो।

 

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY