भगत सिंह स्पेशल: ‘मेरा रंग दे बसन्ती चोला’ गाने के साथ देश के लिए दी थी जान

0
300

23 मार्च 1931 यानी आज ही के दिन भारत के वीर सपूत क्रांतिकारी शहीद-ए-आजम भगत सिंह, शिवराम राजगुरु और सुखदेव को फांसी दे दी गई थी। 1928 में देश की आजादी के लिए भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु तीनों ने लाहौर में एक ब्रिटिश जूनियर पुलिस अधिकारी जॉन सॉन्डर्स की गोली मारकर हत्या कर दी थी। जिसके बाद तीनों पर सांडर्स को मारने के अलावा देशद्रोह के केस में दोषी माना गया। 7 अक्टूबर 1930 को फैसला सुनाया गया कि भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को फांसी पर लटकाया जाए। फांसी का दिन 24 मार्च 1931 तय किया गया। तीनों वीरों की फांसी की सजा पूरे देश में आग की तरह फैल गई, जिसके बाद फांसी को लेकर जिस तरह से प्रदर्शन और विरोध जारी था उससे अंग्रेजी सरकार डर गई। जिसका नतीजा हुआ कि भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को चुपचाप तारीख से एक दिन पहले यानी 23 मार्च 1931 को फांसी दे दी गई।
Iyuva की मुहिम राजनीति में युवाओं को 32% आरक्षण दिलाने और देश में विकास करने के लिए नीचे लिंक पर click कीजिए 
https://iyuva.org/

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here